किसान आन्दोलन खबर: सदन में प्रधानमंत्री के जवाब के बाद हो सकता है कुछ नया बदलाव|

नई दिल्ली: संसद के दोनों सदनों में प्रधानमंत्री की ओर से तीनों नए Agriculture Laws पर सरकार का पक्ष रखने के बाद सरकार किसान संगठनों के समक्ष नया प्रस्ताव रख सकती है। नए सिरे से एक और पहल से पूर्व सरकार की निगाहें राकेश टिकैत पर है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी सोमवार को राज्यसभा तो अगले हफ्ते ही लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर हुई चर्चा का जवाब देने वाले हैं।

केंद्र सरकार के वरिष्ठ सूत्र के मुताबिक चर्चा के जवाब में प्रधानमंत्री Agriculture Laws पर विस्तार से सरकार का पक्ष रखेंगे। इस दौरान खासतौर पर आंदोलन खत्म करने के लिए सरकार की ओर से किए गए प्रयास का जिक्त्रस् होगा। साथ ही इसी में आंदोलन खत्म करने की नई पहल का भी जिक्त्रस् होगा।

सूत्रों के मुताबिक सरकार ने अपनी ओर से किसानों को डेढ़ साल तक तीनों कानूनों को रद्द करने और सर्वपक्षीय कमेटी बनाने का प्रस्ताव पहले ही दिया है। अब सरकार के पास इसके इतर कोई नया प्रस्ताव नहीं है। ऐसे में सरकार की ओर से किसानों से ही नए सिरे से बातचीत शुरू करने का प्रस्ताव मांगा जा सकता है।

खास बात यह है कि अगर नई पहल होती है तो इसके केंद्र सरकार पंजाब के किसान यूनियनों की जगह राकेश टिकैत को रखेगी।

केंद्र सरकार के रणनीतिकार मानते हैं कि पंजाब के किसान यूनियनों की तुलना में टिकैत का रुख अपेक्षाकृत लचीला है। छह फरवरी को राष्ट्रीय स्तर पर चक्काजाम से यूपी, दिल्ली और उत्तराखंड को दूर रख कर टिकैत ने इस आशय का संकेत भी दिया है।

इससे आंदोलन किसान मोर्चा में मतभेद के सुर भी उपजे हैं। आंदोलन के अंतिम पड़ाव में टिकैत किसानों का नया चेहरा बन कर उभरे हैं। ऐसे में सरकार टिकैत के माध्यम से बीच का रास्ता निकालने की संभावना तलाशने पर विचार कर रही है।

कुछ लम्बे समय तक के लिए टल सकता है कानून

वैसे भी तीनों Agriculture Laws के लंबे समय तक टलने के आसार बन रहे हैं। सरकार खुद डेढ़ साल तक कानून टालने के लिए तैयार है। नए सिरे से बातचीत में टालने का समय और बढ़ाया जा सकता है।

ऐसे में जब फिर नए सिरे से कानून लागू करने की बारी आएगी तो सिर पर कई राज्यों के अहम विधानसभा चुनाव और उसके बाद लोकसभा चुनाव की बारी आ जाएगी। जाहिर तौर पर सियासी रूप से ऐसे संवदेनशील समय में सरकार इन Agriculture Laws को ला कर बड़ा विवाद खड़ा करने से बचेगी।

By admin

Leave a Reply

आप छोड़ सकते हैं