राकेश टिकैत ने हांथ जोड़कर जवानों से कहा “जय जवान जय किसान”|

गाज़ीपुर: आज देश भर में चक्का दाम के दौरान किसान नेता राकेश टिकैत का अनूठा रूप दिखाई दिया। गाजीपुर बार्डर पर आंदोलन कर रहे राकेश उन जवानों के आगे नतमस्तक हो गए, जो उनका रास्ता रोकने के लिए तैनात किए गए हैं। राकेश ने हाथ जोड़कर कहा, जय जवान जय किसान। उनका कहना था कि आप सब हमारे भाई हैं।

राकेश टिकैत ने कहा कि किसान और जवान देश की रीढ़ हैं। उनका कहना था कि किसान अपने हकों के लिए आंदोलन कर रहे हैं तो जवान अपनी Duty निभा रहे हैं। उनका किसी से कोई बैर नहीं है। ये जवान तो उनके अपने भाई हैं। उनकी कर्मनिष्ठा को वह शत-शत नमन करते हैं। टिकैत का कहना था कि किसानों की मांग तो भारतीय जनता पार्टी सरकार से है, जिसने तीन Agriculture Laws संसद से पास करके रोटी को तिजोरी में बंद करने की कोशिश की है।

राकेश टिकैत का कहना था कि अपने हक लिए बगैर किसान दिल्ली सीमा से किसी सूरत में अपने घर नहीं जाएंगे। फिलहाल राकेश टिकैत किसान आंदोलन की धुरी बन चुके हैं।

किसान परिवार में जन्म लेने वाले राकेश टिकैत कभी पुलिस में नौकरी भी कर चुके हैं। लिहाजा वह दोनों की स्थिति से अच्छी तरह से वाकिफ हैं।

राकेश टिकैत को किसानों का साथ विरासत में मिला है। उनके पिता महेंद्र सिंह टिकैत भी किसान नेता ही थे। टिकैत 44 बार जेल जा चुके हैं। मध्यप्रदेश के भूमि अधिग्रहण कानून के खिलाफ आंदोलन के चलते राकेश टिकैत 39 दिनों तक जेल में रहे थे। किसानों के गन्ना मूल्य बढ़ाने के लिए भी उन्होंने संसद भवन के बाहर प्रदर्शन किया था। तब उन्हें तिहाड़ भेजा गया था। उस समय राकेश टिकैत ने संसद भवन के बाहर ही गन्ना जला दिया था।

राकेश टिकैत LLB हैं। उन्हें 2014 में उत्तर प्रदेश की अमरोहा सीट से राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष अजीत सिंह ने लोकसभा प्रत्याशी बनाया था। इसमें वह हार गए थे। राकेश टिकैत 1992 में पुलिस महकमे में कांस्टेबल के पद पर तैनात थे। 1993-94 में लालकिले पर पिता महेंद्र सिंह टिकैत के नेतृत्व में किसानों का आंदोलन चल रहा था तो उन्होंने भी इसमें हिस्सा लिया था। जब सरकार ने आंदोलन खत्म करने का दबाव बनाया तो ये भी अपनी पुलिस की नौकरी छोड़ किसानों के साथ खड़े हो गए थे।

By admin

Leave a Reply

आप छोड़ सकते हैं